Creative Status

Bhojpuri Status 2020 | फाड़ू भोजपुरी स्टेटस For Facebook

0 74
दोस्तों आज मैं आप लोगों के लिए नया Bhojpuri Status (भोजपुरी स्टेटस ) लेकर के आया हूँ। और मुझे उम्मीद है की ये (Bhojpuri Status ) भोजपुरी  स्टेटस आप लोगों को ज़रूर पसंद आएगा। इसके बाद मैं और भी नए नए स्टेटस लेके आता रहूँगा। और आगे आप लोगों को कैसा Bhojpuri Status ( भोजपुरी स्टेटस ) चाहिए।
मैं आप लोगों के लिए आगे और भी इंटरेस्टिंग भोजपुरी स्टेटस (Bhojpuri Status ) लेकर के आता रहूँगा।

 आवेला जवन तीर ऊ खाली नाही जाला। मायूस हमरे दिल से कवनो सवाली नाही जाला। काँटा ही करेला फूल के हिफाजत। ओकरा के बचावे कौनो माली नाही जाला।

  झूठा मोहब्बत वफ़ा के वादा साथ निभावे के  कसम केतना कुछ करेला लोग ख़ाली समय बितावे खातिर।

 केतना गुस्सा आवेला न ओ समय जब केहू आपसे झूठ बोलेला अऊर आपके सच पहिले से पता होला।

  ओकर प्यार ही हमार जान ह। शायद ऊ ये बात से अनजान ह। हमके खुद नाही पता चलेला हम के हईं? ओकर प्यार ही हमार पहचान ह।

  नज़र ए कसम हमरे पर एतना ना कर। कि हम तोहरे मोहब्बत खातिर बागी हो जाईं। हमके एतना मती पियाव इश्क़ क जाम की हम इश्क़ के ज़हर के आदि हो जाईं।

  चाहे वाला त तुहके बहुत केहू मिली जीवन भर। लेकिन तू जेकरा के भूल न पाव ऊ चाहत बस हमार होई।

  जब ख़याल आईल त ख़याल उनकरे आईल। जब आँखी बंद कईनी तबो ख़याल उनकरे आईल। सोचनी की याद क ली केहू अऊर के।  ओठ खुलल त नाम उनकरे आईल।

  वफ़ा क रंग जवन गहरा दिखाई देला।  लहू ओह में कुछ हमार दिखाई देला। हमार गम से ताल्लुक बहुत पुरान हवे। हमार दर्द से रिश्ता दिखाई देला।

  हाथ पकड़ के रोकी लेतीं तोहके अगर तोहरे पर तनिको जोर जे हमार होइत। नाही रोवती हम अइसे तोहरे खातिर  अगर हमरे ज़िन्दगी में तोहरे सिवा केहू अऊर होइत।

  आज हम बानी काल्ह हमार याद होई। जब हम ना होखब ये दुनिया में त हमरे बात होई। कभी पलटबु जे जिंदगी के पन्ना त शायद तुहरे आँख से भी बरसात होई।

  बहुत अजीब आदत ह हमार। मोहब्बत होखे चाहे नफरत बहुत शिद्दत से करेनी हम।

  तू पूछ लिह सुबह से ना यकीन होखे त शाम से इ दिल धड़केला खाली तोहरे ही नाम से।

  ज़िन्दगी खातिर जान जरूरी बा पावे खातिर अरमान ज़रूरी बा। हमरे खातिर चाहे केतनो भी गम होखे लेकिन तोहरा चेहरा पर मुस्कान जरूरी बा।

  छोटवन  सा ज़िन्दगी बा हँस के जिहि जा। भुला के गम सारा दिल से जिही जा। अपने खातिर ना सही अपने घर परिवार के लिए जिहीं जा।

  ऊ मिल जाली कहानी बनिके।  हमरा दिल में बसी जाली निशानी बनिके। जेकरा के रखेनी हम दिल में सम्हाल के ऊ काहे निकल जाला आँख के पानी बनी के।

  केतना आसानी से कही दिहलू तू की तू अब भुला जा हमके। साफ़ साफ़ कही दिहले रहतु की कि बहुत जी लिहल तू अब मर जा हमरा के छोड़ के।

  ऊ प्यार जवन हकीकत में प्यार होला ऊ जीवन में खाली एक बार होला। नज़र के मिलते मिलते दिल मिल जाओ। इ इत्तेफ़ाक़ ज़िन्दगी में सिर्फ एक बार होला।

  सदा दूर रहीं आप गम के परछाही से। सामना ना होखे कबो तनहाई से। हर अरमान हर ख्वाब पूरा होखे आप क इहे दुआ बा दिल के गहराई से।

  सूखा पत्ता से प्यार क लेइब हम तोहरा पर ऐतबार कर लेइब हम। बस एक बार कही द की तोहरा से प्यार करेलीं हम हम ज़िन्दगी भर तोहार इंतज़ार कर लेइब।

   हमरा हाथ के लकीरन से दूर बाड़ू तू। हमरा हाथ के पहुँच से दूर बाड़ू तू। फिर भी दिल ई ना मानेला की केहू अऊर के हो चुकल बाड़ू तू।

  जुबान से माफ़ कईले में वक़्त ना लागेला। लेकिन दिल से माफ़ कईले में उमर बीत जाला।

  अकेले रही ली लेकिन ओकरे साथ कबो ना रही जे आपके कबो महत्व ना देत होखे।

  तू चाँद हऊ अइसे शरमाईल ना कर चाँद से चेहरा के अइसे मुरझावल ना कर। जब तक हम ज़िंदा हईं तोहार दोस्त बनिके तबतक तू कवनो बाती से घबराईल ना कर।

  प्यार चाहे केतना भी साँच होखे लेकिन लोगन के साँचा प्यार ना अच्छा सकल वाला लोग ही पसंद आवेले।

  सपना के समझल बहुत मुश्किल हवे। केहू सपना खातिर अपना से दूर बा। अऊर केहू अपना खातिर सपना से दूर बा।

  अच्छा लागेला तुहार नाम हमरे नाम के साथ जईसे कउनो शाम जुड़ल होखे कउनो हसीन शाम के साथ।

  प्यार में मिलल हर एक दर्द एगो उपहार होला। प्यार त उ चीज़ होला जवने में बस इंतज़ार होला। सदियों तक इंतज़ार करेला ऊ लोग जेकरा के अपने प्यार पर पूरा ऐतबार होला।

  कागज़ से पूछीह हम केतना पैगाम लिखेनी। तन्हाई में जवान वक़्त गुज़रेला उ तमाम लिखेनी। अब त पागल हो गईल बिया हमार कलम शायद। जेकरा से हम बार बार तोहार नाम लिखेनी।

  ज़िन्दगी जिये के कबो ना पड़ीत। अगर केहू मोहब्बत बनवले ना होईत। केहू मौत के तमन्ना ना करीत। अगर मोहब्बत में बेवफाई ना होईत।

  इंसान खाली दू वजह से ही बदलेला। चाहे केहू ओकरे जिंदगी में केहू बहुत ख़ास आ जाओ। आ चाहे केहू  ज़िन्दगी से केहू जे बहुत ख़ास होखे ऊ चली जाओ।

  ना जिए के ख़ुशी ना मरे के गम। हमारा के खाली बा उनकरा से ना मिलला के गम। जिएनी एही खातिर की हमार कहहिये ऊ। मरेनी नाही एही लिए की अकेले  ना पईहे ऊ।

  कुछ लोगन के आपन बनावे के केतना भी कोशिश कर लिही जा लेकिन ऊ लोग आखिर  साबित क देला की ऊ आपन ना केहू गैर बा।

   काश प्यार में इ ज़ालिम जुदाई ना होईत। भगवान् इ चीज़ बनवले ना होखते। ना हम उनसे मिलती ना प्यार होईत। ज़िन्दगी हमार हमसे परायी ना होईत।

  अगर हम हद से गुज़री जाईं त  हमके माफ़ करीह रात में तोहके देख के पल भर खातिर अगर हम ठहरी जाईं तोहरा दीदार खातिर त  हमके माफ़ करीह।

Leave A Reply

Your email address will not be published.